Breaking News

एक घाट पर दो देश के श्रद्धालु लोक आस्था का महा पर्व चैती छठ पूजा के अवसर पर कोसी नदी पर उमड़ी भीड़

एक घाट पर दो देश के श्रद्धालु लोक आस्था का महा पर्व चैती छठ पूजा के अवसर पर कोसी नदी पर उमड़ी भीड़

राजीव कुमार सुपौल

बिहार के सुपौल जिले के सीमावर्ती इलाके में नेपाल भारत सीमा पर हो रहे कोसी नदी पर दो देश के श्रद्धालुओं की भीड़ उमरी है सदियों से साल में दो बार कोसी नदी पर लोक आस्था का महा पर्व चैती छठ के अवसर पर नेपाल और भारत के छठ पूजा करने वालो श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है और नेपाल भारत के सभी प्रशासनिक पदाधिकारी इसमें शामिल होते हैं।
इस वर्ष चैत्र नवरात्र में षष्ठी तिथि का आरंभ 22 मार्च को 1 बजकर 50 पर हो चुका है। लेकिन छठ पर्व 23 मार्च को किया जाएगा। इसकी वजह यह है कि 23 मार्च को सप्तमी तिथि दोपहर 12 बजकर 3 मिनट से लग रही है। ऐसे में उदया तिथि को लेकर शाम में छठ की पूजा 23 मार्च को होगी और 24 मार्च को उगते सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा।

ब्रह्मवैवर्त पुराण में बताया गया है कि षष्ठी देवी यानी छठी मैय्या ब्रह्माजी की मानस पुत्री हैं जिनका नाम देवसेना है। देवसेना का विवाह भगवान शिव के बड़े पुत्र कुमार कार्तिकेय से हुआ है जिससे यह स्कंद कुमार की पत्नी कहलाती हैं। स्कंद कुमार कार्तिकेय का ही दूसरा नाम है।

षष्ठी तिथि के स्वामी स्कंद कुमार होने के कारण छठ  व्रत को स्कंद षष्ठी भी कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि छठ का व्रत रखने से स्कंदमाता और कुमार कार्तिकेय की भी प्रसन्नता प्राप्त होती है। कुमार कार्तिकेय के साथ अंक 6 का बहुत ही अद्भुत संयोग है। इनका जन्म षष्ठी तिथि को हुआ था। इनके मुख भी 6 हैं और इनका पालन पोषण 6 कृतिकाओं ने मिलकर किया है जिससे इनकी माताओं की संख्या भी 6 मानी जाती हैं। यही वजह है कि छठ की पूजा से कुमार कार्तिकेय आनंदित होते हैं।

Online Saptari Registration
Online Saptari Registration

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Under News Detail – 750 X *